My School’s First Love -Read. | Today New Love Story In Hindi 2022

My School’s First Love _Read.
 School's First Love
School’s First Love
प्यार  की कुछ कड़िया ऐसी होती है।जो मुझे आज भी याद है। इस संसार में कोई भी ऐसा आदमी नही है जिसे किसी से प्रेम नही हुआ हो। मुझे भी हुआ है।और आपको भी हुआ होगा।
मुझे आज भी वो दिन याद ह जब मैंने 10क्लास में उसे स्कूल में अपना एडमिशन करवाया था। मैं सुबह जल्दी उठकर नहा धोकर तैयार होकर स्कूल के लिए अपने दोस्तो के साथ निकला था।मेरा स्कूल का पहला में पहला दिन था। मैं अपने दोस्तो के साथ जल्दी पहुंचकर सरस्वती वंदना के बाद चुप चाप क्लास में जाकर बैठ गया। पढ़ाई के दौरान क्लास में नए छात्रो का सभी से परिचय करवाया गया।
सभी ने अपना अपना नाम गुरुजी को बता कर अपनी जगह बैठ मैं भी अपना नाम देव बता कर बैठ गया। फिर पढ़ाई शुरू हुई।गुरुजी अपनी अपनी subject के अनुसार हमें पढ़ा कर चले गए। मेरा अपने दोस्तों के साथ और भी गहरा रिश्ता हो गया हम एक साथ पढ़ने के लिए स्कूल आते और छुट्टी के बाद साथ साथ घर चले जाते । धीरे-धीरे समय निकलता गया सब अपनी पढ़ाई में ध्यान देने लगे थे। My School’s First Love .
फिर एक दिन सभी टीचरों ने मिलकर हमारा हर सब्जेक्ट के अनुसार टेस्ट लिया ताकि वे क्लास के अंदर सबसे होनहार छात्र की पहचान कर सकें टेस्ट लेने के बाद हमारी क्लास के अंदर 4 ऐसे छात्र थे जो पढ़ने में सबसे अच्छे है जिनमें से एक में भी था इन चारों छात्रों में दो लड़की और हम दो लड़के थे। मेरा उस समय पढ़ाई में बहुत ज्यादा मन था।
मैं अपने दोस्तों के साथ सुबह जल्दी उठकर तैयार होकर उन्हीं के साथ स्कूल की ओर निकलता और छुट्टी के बाद उन्हीं के साथ अपने घर लौट जाता टीचर जो काम देते उसे अपने घर से लाकर अगले दिन चेक करवाता जैसे जैसे समय निकलता गया सभी अपनी पढ़ाई में और अच्छे होते गए।My School’s First Love .
1 दिन की बात है जब हमारे इंग्लिश के टीचर में सभी को घर से गृह कार्य करके लाने के लिए कहा था अगले दिन सुबह सभी अपना अपना काम कर कर लाए थे उनमें से मैं ही अकेला ऐसा था जिसका गृह कार्य पूरा नहीं था। सभी एक-एक करके अपना काम इंग्लिश के टीचर को चेक करवा रहे थे। और मैं चुपचाप बैठकर उन्हें देख रहा था उसके बाद अगला नंबर मेरा ही था मुझे डर था की मेरा काम पूरा नहीं होने के कारण गुरुजी मुझ पर गुस्सा हुई थी और मुझे डाट खानी पड़ेगी। मैं अपने दोस्तों को बता रहा था की मेरा इंग्लिश का गृह कार्य पूरा नहीं है।

My School’s First Love _Read. | Today New Love Story In Hindi 2022

 School's First Love
School’s First Love
थोड़ी देर बाद गुरु जी ने इंग्लिश का ग्रह कार्य जांच करने के लिए मुझे आवाज लगाई मैं कुछ बोलने ही वाला था की आगे से एक लड़की ने आवाज लगाकर बोली कि सर देव की इंग्लिश की कॉपी मुझ पर है मैंने इसका काम देखने के लिए इससे कॉफी मांगी थी । और मेरा काम पूरा नहीं है। लड़की की इस बात को देखकर मैं भी चकित रह गया और सोचने लगा खुद को मुसीबत में डाल कर इसने मुझे टीचर की मार से क्यों बचाया।
उसे इंग्लिश किंग टीचर के द्वारा बहुत डांट पड़ी। उस दिन छुट्टी के बाद मेरा उससे एक सवाल था की उसने मेरे लिए ऐसा क्यों किया यह बात पूछने के लिए मैं छुट्टी के दौरान स्कूल के मेन गेट के पास रुक गया लेकिन वह अपनी बाकी दोस्तों के साथ दूसरे रास्ते से घर चली गई उस दिन मुझे सारी रात नींद नहीं आई बस दिमाग में एक ही ख्याल था।
आखिरकार उसने मुझे गुरुजी की डांट से क्यों बचाया अगले दिन मैं सुबह जल्दी उठकर उसके रास्ते पर पहुंच गया जहां से वह स्कूल के लिए आती थी। उस दिन मैं अपने दोस्तों को छोड़कर अकेला ही उससे यह सवाल पूछने के लिए चला गया मैंने वहां पर लगभग 2 घंटे उसका इंतजार किया लेकिन वह नहीं आई उसका इंतजार करने के बाद मैं वहां से स्कूल के लिए चला गया फिर मैंने उसकी दोस्तों से कैसे भी करके उसके बारे में पूछने की सोची।My School’s First Love .
तभी मैंने उसकी दोस्तों से कहा की आज मनीषा स्कूल क्यों नहीं आई है तब सारे क्लास के छात्र मेरी ओर देखने लगे तब मैंने उनको समझाया कि ऐसा वैसा कुछ भी नहीं है उसने कल मुझे बचाने के लिए खुद की कॉपी गुरु जी को दी थी जबकि मेरा इंग्लिश का काम पूरा नहीं था मैं केवल उसे थैंक्स बोलने के लिए पूछ रहा हूं।
तब किसी ने कोई जवाब नहीं दिया फिर छुट्टी के बाद एक लड़की ने मुझे पीछे से आवाज लगाकर रोका और कहा कि मनीषा अपने मामा के गांव गई है 2 दिन बाद आएगी यह लड़की वही थी जो मनीषा के साथ स्कूल आती थी मैं यह सब सुनकर अपने दोस्तों के साथ घर लौट आया मुझे उस रोज भी रात को नींद नहीं आई मैं सारी रात भर सोचता रहा की आखिरकार उसने मेरे लिए ऐसा क्यों किया क्या वह मुझसे सच में प्यार करती है।My School’s First Love .

मैं सोच रहा था की ऐसा तो कोई प्यार करने वाली कर सकती है नहीं तो मेरे बाकी और भी दोस्त थे जिन्होंने यह सब नहीं किया अगले दिन मैं स्कूल जाकर फिर से घर आ गया। उस दिन मैंने रात भर पूरा प्लान बना लिया था कि कैसे भी करके उससे कल बात करनी है और उससे पूछना है कि उसने मेरे लिए यह सब क्यों किया मैं सुबह जल्दी उठकर तैयार होकर उसी रास्ते पर पहुंच गया जहां वो अपने दोस्तों के साथ स्कूल

 के लिए आती थी।
मैं वहां जाकर खड़ा ही था कि वह अपने दोस्त के साथ स्कूल के लिए मेरी ओर आ रही है मुझे देख कर उसकी दोस्त मनीषा को अकेला छोड़ कर दूसरे रास्ते से स्कूल चली गई। फिर मैंने उससे उस दिन वाली बात पूछी कि उसने यह सब क्यों किया। तो उसने कहा कि वह मुझसे प्यार करती है और उसने मुझे अपने दोस्त से काम पूरा मैं होने की बात को सुन लिया था। My School’s First Love .
हम दोनों स्कूल के लिए रास्ते में बातें करते जा रहे थे मैंने भी गैरमौजूदगी मैं हुई सारी बातें बताई और कहा कि मैं भी उससे बहुत प्यार करता हूं हम बातें करते करते हैं स्कूल पहुंच गए उस उस दिन का दिन मेरे लिए बहुत खास था हम दोनों स्कूल में साथ साथ आते और साथ साथ पढ़ाई के बाद चले जाते हैं.
school's first love
school’s first love
गुरुजी क्लास में जो काम घर से करके लाने को देते वह पूरा करके लाते हैं ताकि फिर से दोनों में से किसी को भी डांट न पड़े। वो अब मुझसे रात को भी फोन पर बात करने लगी थी हम देर रात तक पढ़ाई के बारे में बातें करते और फिर स्कूल में जाकर सभी से पढ़ाई के बारे में पूछते समय निकलता गया मैं उसके साथ लंच भी करता और फ्री टाइम में सभी दोस्तों के साथ मिलकर उससे मजाक भी करता।
हम दोनों का प्यार इतना गहरा होता जा रहा था की हम स्कूल के बाद जो समय मिलता उसमें साथ साथ बाहर घूमने के लिए जाते। उसे मेरे प्यार पर इतना विश्वास हो गया था कि वह अब मुझे हग और किस आदि करने लगी थी। समय के साथ हमारी परीक्षाएं भी शुरू हुई जिसमें हम सभी ने मिलकर पूरे मन से परीक्षा दी सभी छात्र कड़ी मेहनत के बाद अच्छे अंको से पास हुए। हम सभी अब 12वी क्लास में पहुंच चुके थे।My School’s First Love .
हम दोनों का प्यार उसमें भी वैसा ही था जो पहले था रोज स्कूल में पढ़ाई करते पढ़ाई के बाद घर जाकर दोनों बातें शेयर करते और घंटो भर प्यार की बातें करते हैं जैसे जैसे समय हमारी बारहवीं की परीक्षाएं शुरू हुई जिसके परिणाम स्वरूप सभी छात्रों के अच्छे अंक आए लेकिन पूरी कक्षा में सबसे ज्यादा अंक मेरे आए सभी टीचरों ने मिलकर मुझे बहुत ज्यादा प्यार दिया और सभी ने मिलकर वार्षिक उत्सव का प्लान बनाया। सभी टीचरों ने मिलकर सभी छात्रों को सूचित किया कि वह अगले दिन अपने मनपसंद के अच्छे कपड़े पहन कर सुबह जल्दी तैयार होकर स्कूल मैं आए सभी को सम्मानित किया जाएगा।My School’s First Love .
मैं और मनीषा दोनों एक ही रंग के कपड़े पहनकर स्कूल के लिए गए सभी टीचरों ने मिलकर अच्छे अंक लाने वाले छात्रों को सम्मानित किया और ढेर सारा प्यार दिया मुझे भी सभी के द्वारा प्यार मिला मनीषा के पापा ने भी मुझ पर गर्व है ऐसा कहकर मुझे आशीर्वाद दिया उस दिन मनीषा ने स्टेज प्रोग्राम के दौरान डांस भी किया सभी वार्षिक उत्सव बनाकर अपने अपने घर लौट गए उस रात हमने वार्षिक उत्सव में हुई कार्यक्रम के बारे में प्यार भरी बातें करें और एक दूसरे के साथ बिताए हुए समय को फिर से दोहराया।
धीरे-धीरे समय के साथ सब बदलने लगा। मैं 12वीं पास करके कॉलेज के लिए शहर चला गया वह भी अपने पास ही के एक शहर में कॉलेज के लिए चली गई। हमारी बातें फोन पर इतनी नहीं होती जितनी स्कूल के समय में होती थी।My School’s First Love .
एक दिन मनीषा ने मेरे पास सुबह जल्दी फोन करके मुझे मिलने को कहा और मैं उससे मिलने के लिए गांव चला गया फिर उसने बताया कि उसके पापा ने उसकी शादी के लिए हां कर दिया वह अब यहां से चली जाएगी मैंने भी उसे आगे पढ़ाई करने के लिए समझाया । उस दिन का पूरा समय उसने मेरे साथ बिताया हम दोनों ने अपने प्यार की सारी बातें एक दूसरे के साथ शेयर की।
मैं उससे बात करके शाम को अपने घर लौट आया वह भी अपने घर चली गई फिर अगले महीने घर वालों ने उसकी शादी करवा कर उसे शहर भेज दिया मैं भी अपनी पढ़ाई करने के लिए शहर चला गया। हालांकि हमारी बातें पहले जितनी नहीं होती है लेकिन हम एक दूसरे से पहले की तरह प्यार करते हैं।My School’s First Love .
स्कूल लाइफ में जो प्यार होता है वही सच्चा होता है बाद में तो हम समझदार बन जाते हैं। तो यह थी मेरी स्कूल लाइफ की कहानी।

Leave a Comment


 

x