एक बेवफ़ा के झूठे प्यार की कहानी। Very Sad Love Story.

एक बेवफ़ा के झूठे प्यार की कहानी।

 झूठे प्यार की कहानी
झूठे प्यार की कहानी

यह कहानी 2019 की जब मुझे एक लड़की से प्यार हुआ। आज के ज़माने में सच्चे प्यार की कोई कदर नहीं करता मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ था। मैंने जिस लड़की से प्यार किया था वो एक बेवफ़ा निकली। मैंने उस लड़की से एक सच्चे प्रेमी की तरह प्यार किया था। लेकिन उसने मुझे हर मोड़ पर देखा दिया आप सब में से किसी ने भी मेरी तरहकिसी लड़की को बेहद प्यार किया होगा। तो इस कहानी के अंत तक बने रहिये। यह कहानी आपको आपके प्यार की याद दिलाएगी।झूठे प्यार की कहानी

प्यार एक ऐसा शब्द है जिसका पहला अक्षर ही अधूरा है। इसको करने वाले लोग भी अधूरे है। जब इसका नाम ही अधूरा है तो प्यार करने वालेलोगो का प्यार अधूरा कैसे रह सकता है। दुनिया में बहुत कम ऐसे कपल्स मिलते है जिनका प्यार शादी तक सफल होता है। और कई ऐसे होते जिनका प्यार शादी के बाद भी सफल नहीं होता है।

मेरी भी कुछ ऐसी ही कहानी है। मेरा प्यार तो शादी तक भी नहीं चला। तो आइये शुरू करते है एक वेबफ़ा के प्यार की कहानी। मुझे आज भी भी वो दिन याद है जब मैं मेरी परीक्षा के लिए शहर आया हुआ था। उस समय मैंने अपने दोस्त को कॉल किया और उसके घर चला गया। हम दोनों उस रोज उसके घर पर पार्टी करी और फिर सो गए तभी मेरे दोस्त को उसके दूर क्र किसी रिश्तेदार का कॉल आया और उसने श्याम को अपने घर होने वाले किसी प्रोग्राम में बुलाया।झूठे प्यार की कहानी

अगले दिन श्याम ने मुझे भी साथ लेकर उस प्रोग्राम में जाने की बात कही मैंने उसे काफी मना किया लेकिन उसने अपनी जिद पकड़ ली और मुझे भी वहा ले जाने के लिए मना लिया। मैं अगले दिन सुबह जल्दी तैयार हो गया। हम दोनों गाड़ी से पहले श्याम के दोस्त के साथ एक देवी के मंदिर पहुंचे उस समय वहा भी श्याम के दोस्त के साथ उसके पुरे परिवार वाले और दो सुंदर लड़की वहा मौजूद थी।झूठे प्यार की कहानी

उस समय मैंने उनकी तरफ हलके से देखा और फिर अपनी आँखे उनकी और से हटा लिया। हम सब कुछ समय के लिए वहा देवी के मंदिर पर रुके और फिर उनके घर चले गए जहा वह प्रोग्राम हो रहा था। उस समय श्याम के दोस्त मुझे नहीं जानते तो श्याम ने उनको मेरा परिचय दिया। उस समय हम सब एक साथ श्याम दोस्त के घर बैठे थे।

हम लोग अब मिलकर आपस में बाते करने लगे लग रहे थे तभी एक लड़की हमारे लिए चाय लेकर वहा यह लड़की उन दो लड़कीयो में से एक थी जैसे मैंने देवी के मंदिर पर देखा था। उस समय उसने चाय देते समय मुझसे अपनी नजरे मिलाई और और हलकी से मेरी तरफ मुस्कुराई तब मैंने उसके साथ से चाप चाय का कप ले लिए वो चाय देखकर वहा से चली गयी।

कुछ समय बाद हम एक जगह पर बैठे -बैठे थक गए तो मैंने अपने दोस्त को कुछ देर घूमने की बात कही। तभी उसने मुझे अपने दोस्त के घर के पीछे बने एक गार्डन में भेज दिया। मैं जब उस गार्डन में गया तो वहा पर कुछ बच्चे खेल रहे थे। मैं भी उनको वहा जाकर देखने लगा। कुछ समय तक मैं वहा बच्चो देखने लगा।झूठे प्यार की कहानी

फिर पास बने झूले पर जाकर बैठ गया। मुझे देखकर वहा के सभी बच्चे मेरे पास झूले पर आकर बैठ गए है। हम सब मिलकर फिर झूला खाने लगे। जब हम सब मिलकर झूला खा रहे थे तभी वो लड़की घर के दरवाजे पे खड़ी होकर मेरी तरफ देख रही थी। जैम मैंने उसे अचानक देखा तो मैं झूले से उतर गया और वहा से उसके पास होकर अपने दोस्त श्याम के पास आकर बैठ गया।

जब मैं अपने दोस्त से बैठकर बात कर रहा था तब फिर सेवहि लड़की पानी लेकर मुझे पिलाने के लिए आयी। तब मुझे शक हो गया की यह लड़की मुझे कुछ ज्यादा की भाव दे रही मैं यह बात श्याम को बताने सोची लेकिन मैंने उससे यह बात छुपा ली। कुछ समय बाद हम सब ने मिलकर खाना खाया और फिर एक कमरे में आकर बैठ गए।झूठे प्यार की कहानी

जब मैं श्याम और कई दोस्त एक कमरे में बैठकर बाते कर रहे थे जब वह लड़की बार -बार इधर -उधर मुझे देखकर जाती। मैं उसको देखकर हर बारे अपनी नजरे फेरे लेता। फिर श्याम ने अपने दोस्त को उसके गांव के मंदिर में घूमकर आने को कहा। जब  मैं और श्याम उसके दोस्त के साथ गांव के मंदिर में घूमने जा रहे थे तभी कई बच्चे के साथ वह लड़की भी वहा आ गयी फिर उन सभी ने हमारे साथ मंदिर जाने की जिद की फिर श्याम के दोस्त ने उन सब को गाड़ी में बैठा लिया।झूठे प्यार की कहानी

जब वो गाढ़ी मै बैठी थी तब भी वो मेरे तरफ बार -बार देख रही थी। उस समय मैं भी उससे अपनी नजारे बचा रहा था। हम कुछ समय मंदिर जा पहुंचे सभी गाड़ी से नीचे उतर कर हम सब मंदिर में चले गए। सब लोग मंदिर में बने पार्क में घूमने लगे। जब मैं मंदिर में घूम रहा था तब भी वो लड़की बच्चो के साथ मेरी तरफ देख रही थी।झूठे प्यार की कहानी

दिखने में तो वह लड़की सुंदर थी मेरा भी मन उससे बात करने को करा था लेकिन मैं उस समय उससे कुछ नहीं कहा। देर तक रुकने के बाद हम फिर से श्याम के दोस्त के घर आ गए। वहा आकर कुछ समय तक बाते करने के बाद हमने वापस अपने घर आने की बात उसके दोस्त को तब उसने कहा की वो भी अपने परिवार के साथ शहर चलेगा।

फिर हम दोनों तो अपनी गाड़ी से शहर के लिए निकल गए। लगभग आधे रास्ते में पहुंचने के बाद श्याम के दोस्त ने श्याम को कॉल किया और हमें  उसके शहर वाले घर रुकने को कहा हम दोनों अपनी गाड़ी से उसके घर जाकर रुक गए। कुछ समय बाद श्याम के दोस्त भी अपने परिवार के साथ वहा आ गया।झूठे प्यार की कहानी

जब वे अपने अपने घर के अंदर आये तब मैंने उसी लड़की को उसके साथ वहा देखा। तब मैं पूरी तरह समझ गया की यह लड़की मुझसे प्यार करने लगी है। हम दोनों कुछ समय तक उसके दोस्त से बाते करते रहे और फिर वहा से चले गए। मुझे उस रात निंगडी नहीं आयी मैं पूरी रात उस लड़की के बारे में सोचता रहा।

अगले दिन मैं अपने गांव जाने वाले था की श्याम ने मुझे रोक लिया। मैं भी उसके कहने पर वहा रुक गया। हम दोनों जब उसके घर सो रहे थे तब  श्याम के उसी दोस्त ने श्याम को फोन क्या और हमें वहा बुलाया। हम दोनों उसके कहने पर वहा पहुंच गए। उस समय श्याम और उसका दोस्त मुझे वहा छोड़ कर वहा से कोई काम के लिए चले गए।झूठे प्यार की कहानी

मैं उस समय श्याम के दोस्त के घर पर ही रुक गया। वह बैठकर टीवी देखने लगा। तभी उस समय वह लड़की भी मेरे पास आकर बैठ गयी और टीवी देखने लड़की। मैं चुप -चाप बैठकर टीवी देख रहा था। तो उसने आगे से मुझे हेलो किये और मुझे उनके प्राइवेट पार्क में घूम कर आने को कहा। उसके कहने पर मैं वहा से उसके साथ पार्क में जा पंहुचा। तब उसके साथ श्याम के दोस्त के बच्चे भी गए।झूठे प्यार की कहानी

हम सब पार्क में जाकर घूमने लगे। तब उसने मेरे बारे में सब कुछ पूछा मैंने भी उसके कहने पर उसे सब कुछ बता दिया।

पार्क में जाने के बाद लड़की ने किया लड़के को प्रपोज। एक बेवफ़ा के झूठे प्यार की कहानी। Very Sad Love Story.

झूठे प्यार की कहानी
झूठे प्यार की कहानी

फिर हम दोनों एक साथ बैठकर बाते कर रहे। तभी उसने मुझे आगे से चलाके उसके पिछले प्यार के बारे में बताया। तब मैं चुप चाप उसकी बातो को सुन रहा था। तब उसने मुझसे अपने प्यार के बारे में पूछा। उस समय किसी से प्यार किया नहीं था तो मैंने मना दिया। मैंने मना करते हु उसने पास खड़े फूल के पेड़ से एक फूल तोडा और मुझे दे दिया। देने के बाद उसने कहा की जब से उसने मुझे देखा है वो  मुझसे से प्यार करती है। तब उसकी बातो पर यकीं नहीं हुआ।झूठे प्यार की कहानी

मैंने उसको मना कर लिया लेकिन उसने फिर उसने मुझसे प्यार करने की जिद की उसने कहा यदि मैंने उसके प्यार को स्वीकार नहीं किया तो मर जाएगी उसने आज तक किसी से भी प्यार करने की इतनी रिक्वेस्ट नहीं की। जब वो नहीं मानी तो मैंने उसके हाथ से फूल लेकर उसका प्यार स्वीकार कर लिया।

उसके बाद हम दोनों ने वहा पार्क में बैठकर बहुत सारी बाते करी। कुछ समय बाद उसने मुझसे मेरे फोन नंबर मागे मैंने उसे अपने नंबर दिया और फिर हम दोनों फिर से वहा से घर आ गए। घर आकर उसने मुझे उनकी छत पे लेजाकर मुझे कई KISS करे। कुछ समय बार श्याम और उसका दोस्त वहा आ गया। हम कुछ देर वहा रुके और फिर अपने घर आ चुके थे। ऐसा कई दिनों तह चलता रहा। मेरा जब भी उससे मिलने का मन करता मैं श्याम को लेकर वहा चला जाता।झूठे प्यार की कहानी

वो मुझे व्हाट्सप्प से अपनी फोटो भेजा करती थी। कुछ ही दिनों में मुझे उसकी आदत सी हो गई। हमारी अकसर व्हाट्सप्प के जरिये बाते होती। तो दिन में मुझे मैसेज कर दिया करती थी। मैं भी उसे अधिकतर मैसेज के जरिये उससे बाते करता था। कुछ दिनों बाद मैं अपने घर आ गया। फिर मेरा उससे मिलने का मन किया तो मैं अपने श्याम के साथ फिर से उनके घर आ गया। उस दिन की हमारी आखरी मुलाकात रही।झूठे प्यार की कहानी

मुझे उसके बारे में कई ऐसी बाते मालूम हुई की मैं आप को बता नहीं सकता। लेकिन इतना जरूर बताता हु उसने मेरे घर जाने के बाद किसी दूसरे लड़के से बात करना चालू कर दिया था। उसके बाद वो अपने घर गांव चली गयी। मैं भी धीरे -धीरे उससे अपना मन हटाने लगाने लगा।झूठे प्यार की कहानी

लेकिन जब मैं उससे भूलने की सोचता हु तो मुझे फिर उसका वो धोखा याद आता है जो उसने मुझे दिया था। उसके बाद कई महीनो तक वो मुझे शहर में नहीं दिखी। लेकिन एक दिन वो एक प्रोग्राम मे मुझे दिखी मैं उस समय श्याम के साथ अपने भविष्य की प्लानिंग कर रहा था। तब मैंने उसकी तरफ नजरे उठाकर भी नहीं देखा। हलाकि उसने मेरी तरफ काफी बार देखा।झूठे प्यार की कहानी

उसके बाद भी वो कई बार मुझे श्याम के दोस्त के घर पर दिखी लेकिन मैं उसको देखकर चुप -चाप अपनी नजरे फेर लेता था। जब भी वो मेरे सामने आती है वो मुझे उसका धोखा याद आता है। लड़किया दिखने में सुंदर होती है। लेकिन उसके अंदर झहर भरा होता होता। वो किसी एक लड़के से प्यार नहीं कर सकती।झूठे प्यार की कहानी

आप कितने ही पैसे वाले हो लेकिन वो आप की भी नहीं है। जब लड़की अपने माँ बाप की नहीं हुई तो आप की क्या वोहो पायेगी। इसलिए इन लड़कियों की बातो म न फसे और अपने भविष्य की और ध्यान दे। तो ये थी एक बेवफ़ा के झूठे प्यार की कहानी।मुझे उम्मीद है आप को यह कहानी पसंद आयी होगी। ऐसी और कहानी पढ़ने के लिए हमारी वेबाइट 102generic .com से जुड़े रहे।झूठे प्यार की कहानी

Read Also-International Women’s Day will be celebrated on 8th March. Getting good wishes from some special messages from social media| Today News 2022

Read Also-फेसबुक के लिए हिंदी में सबसे अच्छे स्टेटस| Latest Facebook New Status In Hindi.

Leave a Comment

 


x