स्कूल की लड़की के झूठे प्यार की कहानी | Latest Very Sad Love Story In Hindi

स्कूल की लड़की के झूठे प्यार की कहानी।

झूठे प्यार की कहानी
झूठे प्यार की कहानी

यह कहानी मेरे स्कूल वाले प्यार की है। जब मुझे स्कूल में से एक लड़की से प्यार हुआ था। मैंने तो उस लड़को को बहुत प्यार किया था लेकिन उसने मुझे प्यार के नाम पर धोखा दिया। आज के जमाने में कोई भी किसी से सच्चा प्यार नहीं करता। सब लोग अपने स्वार्थ के लिए एक -दूसरे का इस्तमाल करते है। यह कहानी बहुत दुःख भरी है। आप भी इसे पढ़कर अंदाजा लगा सकते हो सच्चा प्यार किसी को नहीं मिलता है।झूठे प्यार की कहानी

यह कहानी में स्कूल से शुरू होती है जब मुझे मनीषा नाम की एक लड़क से प्यार हुआ था। मैं उस लड़की से दो साल से प्यार करता था लेकिन उससे मेरी कहने की हिम्मत नहीं हुई की मैं उससे प्यार  करता हु। वो हमारे स्कूल की सबसे खूबसूरत लड़की थी। उस लड़की से हमारे स्कूल के सभी लड़के प्यार करते थे। ऐसा मान के चलो को उसे हर कोई लड़का उसे पटाने की कोशिश करता था।झूठे प्यार की कहानी

हमारे स्कूल के दो -तीन लड़को ने तो उसे प्रपोज भी कर दिया था। लेकिन उसने यह बात अपने पापा को बोल दी थी। उसके बाद उन लड़को की हमारे टीचर के द्वारा पिटाई की गयी जिसकी वजह से मैं भी उस लड़की से कुछ कह नहीं स्का। धीरे -धीरे सब अपने हिसाब से चलने लगा। मैं भी अपनी पढ़ाई में अपना ध्यान लगाने लगा।झूठे प्यार की कहानी

एक दिन की बात है जब हमारे स्कूल में एक प्रोग्राम हुआ तब तब को अपने अपने मन पसंद के कपड़े पहनकर आने को कहा हम भी अगले दिन तैयार होकर सुबह जल्दी अपने स्कूल पहुंच गया। उस समय वहा पर कोई नहीं आया था। मैं सबसे पहले ही स्कूल में पहुंच गया था। तभी वो लड़की भी मुझे अकेली स्कूल आती हुई नजर आयी।झूठे प्यार की कहानी

मैंने उसे देखकर उससे बात करने का पूरा प्लान बना लिया था। जब वो स्कूल में पहुंच गयी तो उसे मेरे अलावा उसे कोई वहा नहीं मिला। तब उसकी नजर मेरी और पड़ी और उसने कहा की आज मैं इतनी जल्दी कैसे आ गया। उसके ऐसा बोलने बोलने पर मैंने उसे जबाव दिया की मैं कभी स्कूल देर से नही आया।झूठे प्यार की कहानी

मेरे ऐसा कहने पर उसने फिर मेरी और देखा और चुप होकर पास रखी एक कुर्सी पर बैठ गयी। फिर मैं भी उसके पास जाकर बैठ गया और उससे बाते करने लगा। मैं और तो उससे कह नहीं सकता था तो मैं उसकी पढ़ाई के बारे में पूछने लगा। हम दोनों वहा बाते कर रहे थे उतनी देर में सब आ गए। मैं वहा से खड़ा होकर अपने दोस्तों के पास आ गया।झूठे प्यार की कहानी

कुछ देर में प्रोग्राम शुरू हो गया। सब लोग अपने अंदाज में मस्त थे। कुछ देर बाद डीजे बजने लगा स्कूल की सभी लड़किया अपने मन पसंद के गाने पर डांस करने लेगी। कुछ देर बाद वह लड़की भी डीजे पर डांस करने के लिए आयी। वो स्टेज पर डांस करते हुए बहुत अच्छी लग रही थी। मैं उसकी तरफ बिना पलके झुकाये हुए उसे देख रहा था।झूठे प्यार की कहानी

सबसे अच्छा डांस उसी लड़की ने किया था। जिसने भी उसके डांस को देखा उसका फैन हो गया। सब लोग उसकी तारीफ कर रहे थे। मुझे वो उस दिन बहुत अच्छी लग रही थी। मेरा मन उससे बार -बार बात करने को कर रहा था। लेकिन मैं भी उस समय कुछ नहीं कर सकता था। उस समय मेरा स्कूल में एक दोस्त था जो की बिल्कुल सीधा था। उससे स्कूल के सभी छात्र -छात्रा उससे प्यार करते थे।झूठे प्यार की कहानी

झूठे प्यार की कहानी
झूठे प्यार की कहानी

मैंने उस लड़के को सारी बाते समझा दी लेकिन उस्सने बड़ी मुश्किल से मेरे बारे में उस लड़की से बात करने के लिए हा करी। उस प्रोग्राम को चलते हुए लगभग शाम को गयी थी। तब मैं तो उस लड़के को सब कुछ बता कर अपने घर चला गया। मैंने अपने प्यार की सारि बाते उसे इसलिए बताई थी। केवल वो ही लड़का उसके साथ उसके घर तक जाता था। और वह ही मेरी सारी बाते उसे रास्ते में बता सकता था। और उसके कहने पर वो बुरा भी नहीं मानती थी।

अगले दिन मैं डर के कारण स्कूल नहीं गया। मैंने सोचा की यदि उस लड़के ने मेरी बाते उस लड़की से बोल दी होगी तो वो पक्का अपने पापा को लेकर स्कूल में आ जाएगी। लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ था। जब स्कूल की छुट्टी हुई थी। तब मेरी स्कूल के लड़के ने कहा की उस लड़की ने शाम को मुझे मिलने के लिए गांव के किनारे बनी पुल पे बुलाया है।झूठे प्यार की कहानी

उसकी ऐसी बाते सुनकर मैं अपने घर गया और वहा से खेलने के बहाने से पल पर जाकर बी बैठ गया। मैं वहा जाकर उस लड़की का इंतजार कर रहा था। तभी वो लड़की उस लड़के को लेकर मेरी  तरह आती हुई नजर आयी। मैं उसे देखकर अपना मुँह दूसरी दिशा की तरफ देखकर गांव की सुंदरता को देखने लगा।झूठे प्यार की कहानी

इतनी सी देर में वो लड़की मेरे आ गयी।और वो भी मेरी तरफ अपना मुँह करके वह मेरी और देखने लगी। तभी उसने कहा की ये मैं उससे प्यार करता हु ये बात मैंने खुद ने उसकी क्यों नहीं बताई। उसकी ऐसी बाते सुनकर उस लड़के की तरफ देखने लगा। मैंने  सोचा की पक्का उस लड़के ने मेरे बारे में इस लड़की को कुछ बोल दिया।झूठे प्यार की कहानी

मेरे देखते ही वो लड़का मेरे पास से चला चला गया। तब मैंने उसके सामने उससे अपने प्यार का इजहार किया। और उसकी इतनी तरीके करी की वो वहा पर जोर -जोर से हसने लग गयी। कुछ देर बाद उसने मेरी प्यार की रिक्वेस्ट स्वीकार कर ली। हम  दोनों उस समय पल पर बैठकर अपने प्यार की बहुत देर तक बात की।झूठे प्यार की कहानी

वो उस लड़के के साथ आयी थी वो लड़का भी वहा आ गया। हम तीनो फिर मिलकर गांव की सुंदरता के बारे में एक -दूसरे से बाते करने लग गए। कुछ देर बाद शाम होने वाली थी। उसने मुझसे अपने घर जाने को कहा। तब मैंने उसके जाते समय पीछे से कहा की मैं कल शाम को भी इसी जगह पर उसका इंतजार करुगा।झूठे प्यार की कहानी

इतना कह कर मैं अपने घर आ गया और वो भी अपने घर आ गयी। उस दिन मैं बहुत खुश था। मैं जिस लड़की से दो साल से प्यार करता था आज मैं उसके मुँह से भी ये बात सुनी की वो भी मुझसे प्यार करती है। अगले दिन मैं जल्दी तैयार होकर अपने स्कूल चला गया और उस रास्ते पर जाकर उसका इंतजार करने लगा जिस रास्ते से वो आती थी।

कुछ समय बाद वो उस लड़के के साथ मेरे पास आकर खड़ी हो गयी। मैं फिर उसके साथ स्कूल तक आया और अपने कक्षा में  चला गया। छुट्टी के समय में मैंने उससे मिलने के लिए उसी ब्रिज पर बुलाया जहा पर हम कल मिले थे। दोनों आधे रास्ते तक एक साथ आये तो फिर वो अपने घर की तरफ चली गयी और मैं अपने घर आ गया।झूठे प्यार की कहानी

शाम के समय मौसम बहुत अच्छा हो रहा था। तो मैं उस ब्रिज पर चला गया। कुछ देर बाद वो लड़की भी उस लेक के साथ उस ब्रिज पर आ गयी। हम दोनों को अकेला छोड़कर वो लड़का वहा से चला गया। तब उसने मेरे गलो और होठो पर बहुत देर तक kiss किया और मुझे अपनी बाहो में भर कर बैठी रही। शाम होने वाली थी तब उसने मुझे अपने घर जाने को कहा। थोड़ी देर बाद मैं अपने घर आ गया और वो भी अपने घर चली गयी।

ऐसा रोज चलता रहा। मैं उसे रोज गांव के पास बनी ब्रिज पर मिलने के लिए बुलाता। फिर एक दिन हमारे स्कूल में एक नया लड़का पढ़ाई के लिए आया। वो दिखने में तो एक आमिर बाप की औलाद लगता था लेकिन हरकते वो पागलो की तरह करता था। स्कूल में आते ही न किसी की इज्जत करना जब मन  किया स्कूल आ गया जब मन किया वहा से चला गया।झूठे प्यार की कहानी

वो स्कूल में टीचरो की भी इज्जत नहीं करता था। उसके स्कूल में इतने दोस्त भी नहीं थे। मुझे पता चला की उस लड़के के पिताजी एक पुलिस ऑफिसर है जो हमारे प्रधानाध्यापक के दोस्त है। वो लड़का सब पे अपना हक़ ज़माने लग गया। नहीं उससे हमें कोई फर्क नहीं पड़ा।झूठे प्यार की कहानी

दूसरे लड़के से बात करने के बाद लड़की ने दिया मुझे धोखा। Latest Very Sad Love Story In Hindi | स्कूल की लड़की के झूठे प्यार की कहानी

झूठे प्यार की कहानी
झूठे प्यार की कहानी

ऐसा कुछ दिनों तक चलता रहा.फिर उसने एक दिन मुझे मिलने के लिए ब्रिज पर बुलाया। मैंने उसके कहने पर ब्रिज पर चला वो लड़का उसके साथ नहीं आया जो रोज उसके साथ आता था। उसके आते मैं उसके पास चला गया तब हम दोनों पेड़ की छाया में बैठकर एकक दूसरे से बाते कर रहे थे। तब उसने कहा की वो आज के बाद मुझसे मिलने के ब्रिज पर नहीं आएगी और ना ही स्कूल में बाते करेगी। झूठे प्यार की कहानी

उसके इस तरह की बाते सुनकर मैंने उससे ना मिलने की वजह पूछी तब उसने बताया की उसके पिताजी को हमारे बारे में पता चल गयी है। वो यह बात कहकर रोने लग गयी। मैंने उसे रोते हुए को चुप कराया और कहा की  यदि वो मुझसे मिलना चाहती तो कोई बात नहीं मैं तुम्हारी यादो के सहारे जी लुगा।

मेरे ऐसा कहने पर उसने कहा की यदि उसके पिताजी को यह बात पता नहीं चलती तो वो रोज मिलने के  लिए यहां आ जाती। लेकिन उसके पिता ने उसे साफ मना कर दिया है की यदि उसने हम दोनों के बारे में कुछ भी सुना तो वो मुझे स्कूल भेजना बंद कर देंगे। और उसकी शादी कर देंगे। ऐसा  उस लड़की ने मुझसे कहा। झूठे प्यार की कहानी

मैंने तब उस लड़की की तरह देखा तो उसका चेहरा उतरा हुआ था। तब मैंने भी उसे मना कर दिया की वो मुझसे मिलने के लिए यहाँ न आये। इतना कह कर मैं वहा से अपने घर आ  गया और कई दिनों तक स्कूल नहीं गया। फिर एक दिन हमारे प्रधानाध्यापक में मेरे पापा के पास कॉल किया और मुझे अगले दिन  स्कूल आने को कहा। झूठे प्यार की कहानी

मैं अगले दिन अपने घर से स्कूल के लिए निकल गया रास्ते में मैंने उसका इंतजार भी नहीं किया। और चुप -चाप स्कूल चला गया। तब मैंने उस लड़की और उस लड़के को एक साथ देखा जो हमारे स्कूल में नया आया था। तब जाकर मुझे धीरे -धीरे सब समझ में आने लगा। झूठे प्यार की कहानी

छुट्टी के समय मैंने उस लड़के को बुलाया जो उस लड़की के साथ रोज ब्रिज पर आता था। वो मेरा अच्छा दोस्त भी था उसने मुझे सारी बाते बताई की उसने मेरे साथ धोखा किया है। वो रोज उस लड़कर से मिलने के लिए जाती है। उसने बताया की उसके पापा को उसके बारे में कुछ भी पता नहीं है उसने मुझसे झूठ बोला था। झूठे प्यार की कहानी

मैं उस लड़के की बाते सुनकर चुप -चाप अपने घर आ गया। उस दिन मैं अकेला जाकर में बहुत रोया और मैंने फिर निश्चय किया मैं स्कूल में किसी भी लड़की या लसके से नहीं बोलूगा अपने काम से काम रखुगा। अगले दिन मैं चुप -चाप स्कूल चला गया। उस दिन मैंने किसी से भी बात नहीं करी। मैं धीरे -धीरे अपनी में व्यस्त रहने लगा। झूठे प्यार की कहानी

तो ये भी स्कूल की लड़की के प्यार की कहानी। मुझे विश्वास है की आप को यह कहानी पसंद आयी होगी ऐसी ही और कहानी पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट 102generic.com से जुड़े रहे।

Read Also –Latest Very Sad Love Story In Hindi | स्कूल की लड़की के झूठे प्यार की कहानी

Read Also-IPL 2022 Ki Sabse Khatrnak Team Bani Sunrisers Hyderabad Know | Today IPL Latest News

 

Leave a Comment

 


x